जे.आर.डी. गुणा-भाग फ्रेंच में ही करते हैं

29 जुलाई 1992

जे.आर.डी. गुणा-भाग फ्रेंच में ही करते हैं तने वर्षों तक भारत में रहने के बावजूद फ्रांस का यह अवशेष तो बाकी रह ही गया। जब भी जे.आर.डी. को मानसिक गणित करने की जरूरत पड़ती है तो वे अंकों के साथ अंग्रेजी के बजाय फ्रेंच में गुणा-भाग करते हैं।

जे.आर.डी. के शरीर की आयु भले ही 88 वर्ष हो गई हो, मन से वे अभी भी जवान हैं। वैसे, जे.आर.डी. अपनी शारीरिक तंदुरुस्ती का पूरा ख्याल रखते हैं। 41 वर्ष की आयु में जब अधिकांश लोग शारीरिक श्रम से पीठ फेरने लगते हैं, उस उम्र में जे.आर.डी. ने ‘स्कीइंग‘ करना शुरू किया और फिर जो सिलसिला शुरू हुआ वो अनवरत अगले 44 वर्षों

41 वर्ष की आयु में जब अधिकांश लोग शारीरिक श्रम से पीठ फेरने लगते हैं, उस उम्र में जे.आर.डी. ने ‘स्कीइंग‘ करना शुरू किया और फिर जो सिलसिला शुरू हुआ वो अनवरत अगले 44 वर्षों तक जारी रहा

तक जारी रहा। 85 वर्ष की आयु तक हर वर्ष तीन सप्ताह के लिए जे.आर.डी. योरप में आल्पस की बर्फीली पहाड़ियों में ‘स्कीइंग‘ का लुत्फ उठाने अवश्य जाते थे। घर पर जे.आर.डी. ने अपने प्रसाधन कक्ष में वर्जिश का साजो-सामान इकट्‌ठा कर रखा था। यूं तो जे.आर.डी. को गोल्फ भी बहुत पसंद था, और हर सप्ताहांत पर वे गोल्फ अवश्य खेलने जाते थे, परंतु अपनी पत्नी थेली को लकवा हो जाने के बाद वह गतिविधि भी बंद कर दी। ‘अब न जाने हमारा कितना साथ बाकी है, इसलिए मैं ज्यादा से ज्यादा समय अपनी पत्नी के साथ बिताना चाहता हूं।

टिप्पणी करें

CAPTCHA Image
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)